मोमबत्ती बनाने का बिज़नस कैसे शुरू करें (Candle Making Business In Hindi)

मोमबत्ती बनाने का बिज़नस कैसे शुरू करें: चाहे बर्थ डे पार्टी हो या फिर घर की बिजली चली गई या फिर चर्च में हर जगह मोमबत्ती का उपयोग किया जाता है. कुछ लोग इसका इस्तेमाल बिजली कट जानें पर घर में रोशनी करनें के लिए करते है तो कुछ इसका इस्तेमाल चर्च में करते है.

Mombatti एक ऐसी वस्तु में से एक है, जिसकी मांग कभी कम नही होगी, उल्टा निरंतर बढ़ती ही रहती है. 2010 की रिपोर्ट के अनुसार वेक्स की मांग में 10,000 मिलियन पाउंड तक हुई, जिसमें से 50% हिस्सा मोमबत्तियो का है.

क्या आप कम लागत में शुरु होने वाले बिज़नस की तलाश में है? तो मोमबत्ती बनानें का बिज़नस स्टार्टअप के लिए काफी अच्छा बिज़नस है.

क्योंकि इस बिज़नस में मोमबत्ती को बनाना काफी आसान है. मोमबत्ती बनानें के बिज़नस को शुरू करने की लागत भी कम होती है तथा इसके अधिक बिजली की भी जरुरत नही होती है.

अंत: यह बिज़नस आपके लिए काफी लाभदायक होगा. इस बिज़नस संबधित अधिक जानकारी जैसे मोमबत्ती कैसे बनती है, मोमबत्ती बनाने का बिज़नस कैसे शुरु करे, मोमबत्ती के बिज़नस में कितना लाभ होता है आदि के बारें में विस्तार से जानेंगे.

मोमबत्ती बनाने का व्यापार क्यों शुरू करें?

अनुक्रम दिखाएँ

मोमबत्तियो का इस्तेमाल घर मे रोशनी फैलाने, जन्मदिन मनाने में किया जाता है. इस तरह मोमबत्ती की मांग लगातार बढ़ रही है.

इसके अलावा Candle Making Business को शुरु करनें में कम लागत की आवश्यकता होती है लेकिन इस बिज़नस में आपको अच्छा लाभ मिल जाता है.

इसलिए आप इस बिज़नस को शुरू करते है तो आपका इस बिज़नस में सफल होने के अवसर बहुत अधिक है. अंत: इस बिज़नस शुरू किया जाना चाहिए.

  • 2010 की रिपोर्ट के अनुसार वेक्स की मांग में 10,000 मिलियन पाउंड तक हुई, जिसमें से 50% हिस्सा मोमबत्तियो का है.
  • एक डाटा के अनुसार वर्ष 2019 से 2026 तक मोमबत्ती की इंडस्ट्री सीएजीआर रेट6.3% की दर बढेगी तथा वर्ष 2026 तक USD 13.72बिलियन की इंडस्ट्री बन जायेगी.
  • एक सर्वे की जानकारी के अनुसार भारत में मोमबत्ती का व्यापार 8 प्रतिशत की दर से बढ़ रहा है.

बाजार में मोमबत्ती की मांग कितनी है? (Scope and Demand)

हालांकि दुनियां में बिजली उत्पादन होने के कारण अब मोमबत्ती का इस्तेमाल नही किया जाता है. लेकिन इसके बावजुद बिजली जाने के दौरान रोशनी करने के लिए घर में पहले से ही मोमबत्ती रखी जाती है.

हालांकि अभी भारत में बिजली की कमी हो रही है, इसलिए छोटे-छोटे शहरो में बिजली वापस कटना शुरु हो गई. इसके साथ ही मोमबत्ती की मांग भी बढ़ चुकी है.

ऐसा नही है कि मोमबत्ती का इस्तेमाल सिर्फ बिजली जानें के दौरान ही होता है.  मोमबत्तियो का इस्तेमाल घर में रोशनी फैलाने, कई अवसरो पर खुशियां मनानें के दौरान तथा चर्च में होता है.

हर साल कई सारे लोग अपना जन्मदिन बङी खुशियों के साथ जिसमें वे मोमबत्तियो का इस्तेमाल करते है. वही त्यौहारो जैसे दीपावली के दिनों में मोमबत्तियो की मांग भी काफी बढ़ जाती है.

इसके उपयोग के कारण मोमबत्ती की मांग कभी कम नही होगी. इसलिए अगर आप इस बिजनेस शुरु करते है तो आप इस बिज़नस में सफल हो सकते है.

मोमबत्तियां कितने प्रकार की होती है? (Types of Candles)

वैसे देखा जाए तो सभी मोमबत्ती का एक ही कार्य रोशनी फैलाना होता है लेकिन इनका इस्तेमाल अगल अलग अवसरो पर किए जानें के कारण ये बाजारो में अलग अलग प्रकार की व डिजाइन में आती है.

No.मोमबत्ती के प्रकार जानकारी
1साधारण मोमबत्तीये सामान्य मोमबत्तियां होती है. अर्थात इनका इस्तेमाल घरो में बिजली कट जानें के दौरान, श्रद्धांजलि देने के लिए, पूजा पाठ करनें तथा दीपावली जैसे त्यौहारो में करते है.  
2सजावट वाली मोमबत्ती  ये मोमबत्तियां सजावट के काम में आती है. इनका इस्तेमाल शादी, पार्टी तथा अन्य प्रोग्रामों में और दीपावली में भी किया जाता है.  
3जन्मदिन वाली मोमबत्ती  बर्थडे कैंडल्स का इस्तेमाल जन्मदिन के समय किया जाता है. इसका इस्तेमाल जन्मदिन कैंक के ऊपर रखनें के लिए किया जाता है.  
4सुगंध वाली मोमबत्ती (एरोमेटिक  ये जलने के दौरान खूशबू देते है. इनका इस्तेमाल लोग अपने घर में चारो तरफ खुशबू फैलानें के लिए किया जाता है. इनके अलावा एरोमैटिक कैंडल्स का इस्तेमाल Couples Candle light dinner के दौरान भी करते है.  
Types of Candle In Hindi

मोमबत्ती व्यवसाय कैसे शुरू करें (Mombatti Business kaise Start Kare)

अगर आप वास्तव में Candle Business शुरू करने के बारें में जानना चाहते है तो मैं आपको बता दूं कि कैंडल मैंकिग बिज़नस शुरु करने के लिए Perfect Business Planning की आवश्यकता होती है.

अगर आप बिज़नस प्लान बनाकर काम करते है तो आपके बिज़नस के सफल होने के अवसर कई गुना अधिक हो जाते है. अंत: अपना बिज़नस प्लान बनाते समय निम्न बिंदुओ का ध्यान रखें.

#1 व्यापार शुरु करनें के लिए स्थानीय क्षैत्र की मांग का पता करे

अगर आप मोमबत्ती का व्यापार शुरू करनें में रुचि रखते है तो इस बिज़नस को शुरु करनें से पहले यह सुनिश्चित कर ले कि आपके स्थानीय क्षैत्र में किसी प्रकार की मोमबत्ती का प्रचलन है.

अर्थात आपके आस पास के क्षैत्र के रहनें वाले लोग किस प्रकार की मोमबत्ती (साधारण, सजावट, जन्मदिन तथा खूशबू वाली मोमबत्ती) का अधिक इस्तेमाल करते है.

मेरा कहने का मतलब है कि शुरुआत में आप अपने स्थानीय मार्केट को ही टारगेट रखे क्योंकि यदि आप अन्य क्षैत्रो को टारगेट करते है तो आपको ट्रांसपोर्ट में भी पैसे खर्च करनें पङेंगे.

इससे आपके उत्पाद के मूल्य में भी वृद्धि हो जाती है तथा बाहरी प्रतिस्पर्धी क्षैत्र में अपना उत्पाद बेंचना आपके लिए बङी चुनौती बन जाती है.

इसलिए शुरुआत में अपनें आस पास के क्षैत्र के लोगो की मांग के अनुसार काम करे.

#2 मोमबत्ती के व्यापार के लिए वित्तीय योजना बनाए

सभी प्रकार के व्यापार को शुरू करनें के लिए Investment Planning बेहद जरुरी होता है. यानि आपको यह पता करना होगा कि मोमबत्ती के व्यापार करने के लिए कितने पैसो की तथा कहां पर कितनें पैसो की जरुरत होगी.

हालांकि इस बिज़नस को शुरु करने के अधिक निवेश की आवश्यकता नही है.

आप कुछ हजार रुपयो से ही इस बिज़नस की शुरुआत कर सकते है.

यदि आपके पास इस बिजनेस को शुरु करनें के लिए पर्याप्त पैसे नही है तो आप प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत शिशु ऋण के लिए आवेदन भी कर सकते है.

#3 मोमबत्ती के व्यवसाय को शुरू करने के लिए स्थान का चुनाव करे.

यदि मोमबत्ती बनाने के बिज़नस  को छोटे स्तर पर शुरु करना चाहते है तो आप इस बिजनेस को अपनें घर या किराये की दुकान में कर सकते है. हालांकि इसके लिए कम से कम 12X12 की जगह की आवश्यकता होती है.

मोमबत्ती का बिज़नस  शुरु करनें  के जमीन का चयन करते समय इन बातो का ध्यान रखे-

  • चयनित जगह में मोमबत्ती पिघालनें के लिए पर्याप्त जगह होनी चाहिए.
  • वहां पर आपके सामान के रखरखाव की पूरी व्यवस्था हो तथा वहां मोमबत्ती को स्टोर भी किया जा सके.
  • आपकी चयनित जगह में कार्यालय के रुप में उपयोगी जगह होनी चाहिए.
  • वहां पर कार्य को अधिक कुशलता से तथा व्यवस्थित तरीके से किया जा सके.
  • वहां पर ट्रांसपोर्ट की सुविधा होनी चाहिए.
  • वहां पर कच्चा माल भी आसानी उपलब्ध होना चाहिए.

#4 मोमबत्ती व्यवसाय को शुरू करने में लगने लागत का अनुमान

मोमबत्ती के बिज़नस  को शुरु करने में लगनें वाली कुल लागत आपके बिज़नस के आकार पर निर्भर करता है. अगर आप अपनें बिज़नस को छोटे स्तर पर शुरू करते है तो आपको 10,000से 50,000हजार रुपये का Investment करना होगा. इसे आप अपनें घर पर या किसी छोटी जगह पर भी शुरु कर सकते है.

जबकी यदि आप अपनें बिज़नस को बङे स्तर पर शुरू करना चाहते है तो इसके लिए आपको 5 लाख से 7 लाख रुपये तक के निवेश की आवश्यकता होगी.

बङे स्तर पर बिज़नस को शुरु करनें के लिए मशीनो, कच्चे माल, कर्मचारियो तथा अन्य जरुरी वस्तुओ के लिए पैसे खर्च करनें पङते है.

अगर फैक्ट्री लगानें की सोच रहे है तो आपको एक बङी जमीन की आवश्यकता होती है. जिसके लिए आप जमीन को किराये पर ले सकते है. यदि आप जमीन को खरीदते है तो इसके लिए आपको अलग से पैसे खर्च करनें पङेगें.

#5 मोमबत्ती के निर्माण में लगने वाले सामान की व्यवस्था

वैसे तो Candle Making Business में मुख्य रुप से कच्चा माल के रुप में मोम, धागे, रंग, ईथर का तेल का इस्तेमाल किया जाता है.

लेकिन इसके अलावा कुछ और भी सामग्री है, जिनका इस्तेमाल मोमबत्ती के निर्माण के दौरान किया जाता है. जो नीचे बताई गई लिस्ट में शामिल है.

No.Row material Pre UnitPrice (In INR Rupees)
1सुंगंध के लिए सेंट250
2पैराफिन मोम115
3विभिन्न रंग85
4ओवन5000
5ओवन5000
6कैस्टर तेल310
7मोमबत्ती के धागे35
8थर्मामीटर160
मोमबत्ती के निर्माण में लगने वाले सामान की व्यवस्था

NOTE: इस लिस्ट में बताए गए सामानो की कीमत हर जगह एक हो, यह जरुरी नही है. इनकी कीमत कम या ज्यादा हो सकती है लेकिन इस लिस्ट की मदद से आपको अदांजा लगानें में मदद मिलेगी.

मोमबत्ती बनाने के लिए कच्ची सामग्री कहाँ से खरीदे?

वैसे तो आप मोमबत्ती बनानें मे लगनें वाले कच्चे सामान को ऑनलाइन तथा ऑफलाइन दोनो जगहो से खरीद सकते है.

आप चाहे तो आप आवश्यक कच्ची सामग्री को Indiamart जैसे ऑनलाइन स्टोर से खरीद सकते है.

इसके अलावा आप कच्चे माल को स्थानीय दुकानो से या थोक विक्रेताओ से खरीद सकते है. कोशिश करे कि आप कच्चे माल को थोक विक्रेताओ से ही खरीदे. क्योंकि ये आपकी मांग को पूरा करनें में समर्थ होते है तथा दाम कम होते है.

  • कैंडलचेम, लिंक इन्टरनेशनल
  • वेल्बुर्ण कैंडल्स प्राइवेट
  • पूजा क्राफ्ट एंड एमब्रोड़री

ये कुछ मुंबई तथा बेंगलूर की प्रसिद्ध कंपनियां है, जहां से आप कच्चे माल को खरीद सकते है.

  • मोमबत्ती निर्माण करने के लिए आवश्यक कच्चा माल खरीदते समय इसकी गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखे.

#6 मोमबत्ती बनाने का सही साँचा तैयार करें

मोमबत्ती बनाने के बिज़नस में वही व्यक्ति सफल हो सकता है, जो क्रिएटिव हो. अर्थात आपको अलग अलग डिजाइन की मोमबत्ती बनाना आना चाहिए.

यदि आप मोमबत्ती को अपने हाथो से बनाते है तो उन्हे सही आकार देने के लिए कई सारे सांचो की आवश्यकता होती है. जिसकी मदद से आप कई अलग अलग डिजाइन में मोमबत्तियां बना सकते है.

लेकिन यदि आप मोमबत्ती का निर्माण मशीनो से करते है तो आपको सांचो की आवश्यकता नही होती है क्योंकि मशीन पहले से सांचे लगे होते है.

आप सांचो को Amazon तथा Indiamart जैसी ऑनलाइन वैबसाइट से खरीद सकते है.

#7 मोमबत्ती बनाने के लिए मशीन की आवश्यकता

मोमबत्ती को बनानें के लिए कैंडल मशीन की आवश्यता होती है. बाजार में आपको कई तरह की कैंडल मशीन मिल जाती है. जिनकी मदद से कैंडल बनायी जाती है. कैंडल मशीन की उत्पादन क्षमता अलग अलग होती है.

कैंडल मशीन की कीमत 35 हजार से 2 लाख रुपये तक होती है. इन मशीनो की कीमत इनकी उत्पादन की क्षमता पर निर्भर करती है.

मोमबत्ती के निर्माण में मुख्य रुप से तीन प्रकार की कैंडल मशीनो का इस्तेमाल किया जाता है. जो निम्न है-

मशीन जानकारी
  मैनुअल मशीन    मैनुअल कैंडल मशीन को उपयोग करना आसान होता है.इसकी मदद से प्रति घंटे 1800 तक मोमबत्तियो का निर्माण किया जा सकता है.  
  सेमी ऑटोमेटिक मशीन    सेमी ऑटोमेटिक मशीन को भी संचालित करना आसान होता है.इनकी मदद से आप अलग अलग आकार की मोमबत्तिया बना सकती है. इस मशीन की मदद से मोमबत्ती को तुंरत ठंडा किया जा सकता है.  
  फुल ऑटोमेटिक मशीन    पूर्ण ऑटोमेटिक मशीन की मदद से आप विभिन्न साइज की तथा आकार की जैसे गोल, चौकोर मोमबत्ती का निर्माण कर सकते है.इस मशीन की उत्पादन क्षमता बहुत अधिक होती है. यह मशीन प्रति मिनट 200 से 250 मोमबत्तियो का निर्माण कर सकती है. इसमें आप अलग अलग डिजाइन की मोमबत्ती के निर्माण के लिए अलग अलग सांचो का इस्तेमाल कर सकते है.    
मोमबत्ती बनाने के लिए मशीन

#8 मोमबत्ती बनाने की सही विधि/प्रक्रिया का पालन करें

मोमबत्ती का निर्माण मशीन या हाथ दोनो द्वारा किया जा सकता है. हालांकि मोमबत्ती  को चाहे मशीन से बनाए या हाथ उन्हे बनानें कि विधि एक है. लेकिन हाथ से मोमबत्ती बनाने के लिए सांचो का  इस्तेमाल करते है.

जबकी मशीन से मोमबत्ती बनानें के लिए सांचो का इस्तेमाल नही किया जाता है क्योंकि उनमें सांचे पहले से ही उपस्थित होती है.

मोमबत्ती को हाथ से बनाने की प्रक्रिया

  • मोमबत्ती को बनानें के लिए सबसे पहले मोमबत्ती बनाने वाले सांचो में धागा डाला जाता है.
  • अब कच्चे मोम को 290 डिग्री से 380 डिग्री तक गर्म करके पिघाला जाता है.
  • अब इस पिघले हुए मोम को सावधानी के साथ मोमबत्ती बनाने के सांचो में डाला जाता है.
  • मोम को मोमबत्ती के सांचो में डालते समय इस बात का ध्यान रखे कि मोम सभी खांचो में बराबर तथा सही भरा जाए.
  • अब मोम को सुखनें के लिए रखा जाता है. जिसमें 10 से 20 मिनट तक का समय लगता है.
  • मोमबत्ती के सुखनें के बाद आपकी मोमबत्ती तैयार हो चुके है. जिनके धागे काट कर अलग कर दे.
  • मोमबत्ती को रंगीन बनानें के लिए पिघले हुए मोम में रंग मिलाया जाता है. जिससे मोम रंगीन हो जाता है तथा रंगीन मोमबत्ती बनती है.
  • सुगंधित मोमबत्ती बनानें के लिए इनमें सुगंध भी मिलायी जाती है.
  • मोमबत्ती के निर्माण में पैराफिन मोम का इस्तेमाल किया जाता है.

#09 मोमबत्ती की पैकेजिंग का कार्य करना

किसी भी बिज़नस का अंतिम काम अपनें प्रोडक्ट पैकिजिंग करना होता है. इसी तरह मोमबत्ती बनाने का व्यापार का अतिंम पैकैजिंग करना होता है.

आपके द्वारा की गई पैकेजिंग की गुणवत्ता आपकी मोमबत्ती की सुरक्षा को तय करती है. आपकी पैकेजिंग मोमबत्ती के रिसाव से सुरक्षा प्रदान की जाती है.

मोमबत्ती की पैकेजिंग मोमबत्ती के आकार के अनुसार तथा विभिन्न रंगनी तथा सजावटी पेपर के माध्यम से की जाती है.आप चाहे तो आप इसकी पैकेजिंग कार्डबोर्ड बॉक्स में भी कर सकते है.

मोमबत्ती की पैकिजिंग की प्रक्रिया

  • मोमबत्ती की पैकेजिंग करने के लिए मोमबत्ती के आकार के अनुसार पतली सी कार्डबोर्ड बॉक्स का उपयोग करे.
  • अब मोमबत्तियो को बबली रैप वाले पैपर में लपेट कर कार्डबोर्ड बॉक्स में पैक कर दे.
  • अब कार्ड बॉक्स पर अपने ब्रांड के नाम वाला स्टीकर चिपका दे.
  • पैकेजिंग आकर्षक तथा मजबूत होनी चाहिए.

#10 मोमबत्ती के व्यापार की मार्केटिंग कैसे करें

आपकी Marketing Strategy जितनी अधिक अच्छी होती है, आपको बिज़नस में उतना ही अधिक लाभ होता है तथा आपकी ब्रिक्री बढती है.

मार्केटिंग से मतलब है कि अपनें प्रोडक्टस के बारें में लोगो को बताना. अपनें प्रोडक्ट को अधिक से अधिक लोगो की नजरो में ले जाना है.

मार्केटिंग करनें का मुख्य उद्देश्य अपने प्रोडक्ट की बिक्री बढ़ाना तथा अपनी कंपनी प्रचार प्रसार करना होता है.

आप अपनी मोमबत्ती की मार्केटिंग करनें के लिए निम्न तरीके अपना सकते है-

  • कर्मचारियो को हायर करे- आप कुछ लोगो को हायर कर सकते है, जो आपके आस-पास के लोगो को आपके मोमबत्ती के बिज़नेस के बारें में बता सके तथा उनके बारें में बात करे.
  • ऑनलाइन माध्यम से प्राचार  करे- यदि आप ऑनलाइन सर्विसदेना चाहते है तो आप स्वंय की ऑनलाइन वेबसाइट भी बना सकते है. जहां पर आप अपनें प्रोडक्ट को बेंच पाएंगे. यदि कोई व्यक्ति इंटरनेट पर मोमबत्ती के बारें में सर्च करेगा तो आपकी वेबसाइट भी दिखाई देगी. जिससे वह आपकी मोमबत्ती को खरीद पाएगा.
  • सोशल मिडिया के माध्यम प्रचार करे- आप अपनी मोमबत्ती के ब्रांड का प्रचार सोशल मिडिया जैसे इंस्ट्राग्राम, फेसबूक, व्हाट्सअप इत्यादि द्वारा कर सकते है.
  • पोस्टर तथा टेम्पलेट द्वारा प्रचार करे- आप अपनी मोमबत्ती के ब्रांड के टेम्पलेट तथा पोस्टर बना कर बंटवा सकते है.जिससे अधिक से अधिक लोगो को आपकी कंपनी या ब्रांड के बारें में पता चलेगा.
  • टीवी पर विज्ञापनो द्वारा प्रचार करे- अगर आपका बजट अधिक है तो आप अपनें ब्रांड  विज्ञापन टीवी पर दे सकते है. इससे दूर दराज के लोगो को आपके मोमबत्ती बिज़नस के बारें में पता चलेगा.

मोमबत्ती को बनाने में कितना समय लगता है?

मोमबत्ती के निर्माण में कितना समय लगेगा? इस प्रश्न का जवाब इस बात पर निर्भर करता है कि आप किस प्रकार की मोमबत्ती का निर्माण कर रहे है.

बाजार में आपको कई अलग अलग डिजाइन की मोमबत्तियां मिल जाती है. मोमबत्ती जितनी अधिक डिजाइन वाली होनी, उसे बनानें में उतना ही अधिक समय लगता है.

अगर कोई व्यक्ति हाथो से मोमबत्ती बनाता है तो इसमें लगनें वाला समय उस व्यक्ति की क्षमता पर निर्भर करता है. एक व्यक्ति 30 से 35 मिनट के अंदर 90 मोमबत्तियो का निर्माण कर सकता है.

जबकी यदि मोमबत्ती का निर्माण मशीन द्वारा किया जाता है तो इसमे लगनें वाला समय मशीन की उत्पादन क्षमता पर निर्भर करता है.

मैनुअल मशीन एक घंटे में 1800 मोमबत्तिया, सेमी ऑटोमेटिक मशीन एक मिनट में 100 से 150 मोमबत्तियो का तथा पूर्ण ऑटोमेटिक मशीन एक मिनट में 200 से 250 मोमबत्तियो का निर्माण कर सकती है.

मोमबत्ती को बनाने में ध्यान रखने वाली सावधानी

मोमबत्ती के निर्माण के समय मोम काफी गर्म होता है, इसलिए आपको इसे बनाते समय निम्न सावधानियां रखनी चाहिए-

  • मोम को 290 डिग्री से 380 डिग्री तक गर्म किया जाता है. इसलिए इसे अपनें शरीर से दूर रखे.
  • पिघले हुए मोम से बच्चो को दूर रखे.
  • मोम को पिघालते समय सावधानी रखे कि आग न लग जाए.
  • मोम को आवश्यकता से अधिक तापमान पर गर्म नही करना चाहिए.

मोमबत्ती के व्यापार को शुरू करने के लिए क़ानूनी प्रक्रिया

भारत में कहीं तथा कोई भी बिज़नस शुरु करनें के लिए आपको कुछ कानूनी प्रक्रियाओ को अपनाना होता है. इसी तरह मोमबत्ती बनाने का बिज़नस के लिए भी कुछ कानूनी प्रक्रियाए है, जो निम्न है-

(1) कंपनी की संरचना

अगर आप मोमबत्ती बनानें का बिज़नेस छोटे स्तर पर शुरु करना चाहते है तो आपको अकेली की स्वामित्व वाली कंपनी या एलएलसी या साझेदारी का विकल्प चुनना होगा.

(2) व्यापार का रजिस्ट्रेशन

मोमबत्ती का बिज़नस शुरू करनें से पहले आपको बिज़नस का आकार के अनुसार रजिस्ट्रेशन करवाना होगा.

किसी शहर में व्यापार करनें के लिए आपको वहां से अनुमति प्राप्त करनी होगी तथा आपको अपनें बिज़नस को एसएसआई यूनिट में पंजीकृत करवाना होगा.

(3) पैन कार्ड

आपको अपनें बिज़नस का पैन कार्ड बनाना जरुरी होता है. इसलिए आपको पैन कार्ड के लिए आवेदन करना होगा.

(4) व्यवसायिक बैंक खाता

आपको एक व्यवसायिक खाता शुरु करनें की जरुरत होगी. अपना व्यवसायिक खाता शुरु करनें के लिए आप किसी भी बैंक से संपर्क कर सकते  है.

व्यवसायिक बैंक खाता बनवानें पर आपके निजी खर्चे अलग रहेंगें तथा आसानी पता लगाया जा सकता है कि आपको मोमबत्ती के व्यापार में लाभ हो रही है या हानि.

(5) टैक्स का भुगतान करे

Candle Making Business हो या कोई अन्य व्यापार को शुरु करनें के लिए केंद्र सरकार या राज्य सरकार के करो का भुगतान करना होता है.

जिसके लिए आपको अपनें बिज़नस का राज्य में पंजीकरण करवाना होगा. ये कर साल में सिर्फ एक बार भरे जाते है. अधिक जानकारी के लिए आप राज्य के नियमों को पढ़ सकते है.

आपको राज्य या संघ से पुनर्विक्रय का प्रमाणपत्र दिया जाता है, जो आपके उत्पादो पर बिक्री कर प्राप्त करनें के बाद दिया जाता है.

अगर आप मोमबत्ती बनाने का व्यापार बङे स्तर पर करना चाहते है तो आपको कुछ और भी प्रक्रियाओ को करना होगा-

(6) कंपनी का नाम का चुनाव करे

अगर आप अपना बङे स्तर पर बिज़नस शुरु करना चाहते है तो आपको अपनी कंपनी का नाम चुना होगा.

इसके पश्चात कंपनी के नाम को ट्रेडमार्क में पंजीकृत करवाए और उसके बाद वेट रजिस्ट्रेशन के लिए आवेदन करे.

(7) न्योक्ता पहचान संख्या (EIN) के लिए आवेदन करे

अब EINके लिए आवेदन करना होगा. जिससे आपकी कंपनी को IRS द्वारा पहचान संख्या मिलती है.

इसके लिए आप आईआरएस की वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन आवेदन भी कर सकते है.

मोमबती बनाने का बिज़नस  के लिए किन किन डॉक्यूमेंट की जरुरत होती है?

उम्मीद है कि अब तक आपको “कम लागत में मोमबत्ती बनाने का बिज़नस शुरू करें” सवाल का जवाब मिला होगा. अब हम यह जानेगें कि मोमबत्ती का बिजनेस शुरु करनें के लिए किन-किन दस्तावेजो की आवश्यकता होगी.

मोमबत्ती बनाने के व्यापार के लिए लोन कैसे ले?

अगर आपके पास मोमबत्ती बनानें का बिज़नस करना चाहते है किंतु आपके पास पैसे नही है तो आप बैंक से लोन ले सकते है. किंतु लोन लेते समय टर्म एंड कंडिशन तथा ब्याज का विशेष ध्यान रखे.

इसके अलावा आप प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत 10,00,000 रुपये का लोन ले सकते है.

सरकार द्वारा उद्योग को बढ़ावा देने के लिए महिलाओ, अनुसूचित जाति या अनुसूचित जन जाति वर्ग को ऋण में 30% की छूट दी जाती है.

मोमबत्ती बनानें का बिज़नस शुरु करनें से संबधित कोई कॉर्स है क्या?

हालांकि यह जरुरी नही है कि मोमबत्ती का बिज़नस शुरु करने के लिए कोई कोर्स करे. आप चाहे तो आप यूट्यूब विडियो की मदद से भी सीख सकते है.

लेकिन सरकार ऐसे उद्योग को बढ़ावा देने के लिए सरकार लोगो से शुल्क लेकर प्रशिक्षण देती है तथा यह कोर्स तीन माह से एक साल का होता है.

इस कोर्स को पूरा करनें के लिए 8 वी पास होना चाहिए तथा उम्र 15 वर्ष से अधिक होनी चाहिए. जिसमें मोमबत्ती बनाना, ढालनें का सही तरीका सीखाना, डिजाइनर मोमबत्तिया बनाना सिखाना आदि सीखाया जाता है.

मोमबत्ती बनानें के लिए प्रशिक्षण किन-किन संस्थाओ से ले?

अभी कई सारी ऐसी संस्थाए है, जहां से आप मोमबत्ती बनानें के लिए प्रशिक्षण ले सकते है.

  • वुलन होजरी ट्रेनिंग सेंटर, लखनऊ
  • खादी ग्रामोद्योग विद्यालय, बाराबंकी
  • मल्टी डिसिप्लिनरी ट्रेनिंग सेंटर, देहरादून
  • मल्टी डिसिप्लिनरी ट्रेनिंग सेंटर, राजघाट, नई दिल्ली
  • खादी ग्रामोद्योग विद्यालय, वीरापंडी
  • डॉ राजेन्द्र प्रसाद मल्टी डिसिप्लिनरी ट्रेनिंग सेंटर, पटना

ऊपर बताई गई कुछ प्रसिद्ध संस्थाएं है, जहां से आप मोमबत्ती बनानें का प्रशिक्षण प्राप्त कर सकते है.

अधिक जानकारी के लिए आप www.kvic.org पर जाकर लॉग इन कर सकते है. जहां पर आपको इनके बारें में विस्तार से जानकारी प्राप्त हो जाएगी.

FAQs: Candle Making Business In Hindi

मोमबत्ती बनाने प्रशिक्षण कहां से ले?

आप चाहे तो आप यूट्यूब विडियो की मदद से मोमबत्ती बनाना सीख सकते है, इसके अलावा आप सरकार ऐसे उद्योगो को शुरु करनें के लिए प्रशिक्षण भी देती है.

मोमबत्ती बनाने के लिए क्या क्या सामान चाहिए?

मोम, धागे, रंग, ईथर का तेल का इस्तेमाल किया जाता है.

मोमबत्ती बनाने वाले मशीन की कीमत क्या है?

मोमबत्ती बनाने वाली मशीन की कीमत उस मशीन की मोमबत्ती बनाने की क्षमता पर निर्भर करती है. अगर हम बाजार में मोमबत्ती बनाने वाली मशीन को खरीदते है तो इसके लिए 25 से 30 हजार रुपये खर्च करनें होंगे.

मोमबत्ती किस चीज से बनती है?

मोमबत्ती को पिघले हुए पैराफिन मोम से बनाया जाता है.

मोमबत्ती कैसे बनती है?

मोमबत्ती बनानें के लिए मोम को आवश्यकता के अनुसार ताप पर गर्म करके पिघाला जाता है. मोमबत्ती के सांचो में धागा डाल दिया जाता है. उसके बाद पिघले हुए मोम को मोमबत्ती के सांचे में भरा जाता है. इसके बाद मोम को ठंडा होने के लिए छोङ दिया जाता है. इसके बाद मोमबत्ती बनकर तैयार हो जाती है.

निष्कर्ष: मोमबत्ती बनाने का बिज़नस हिंदी में

आज मैनें इस लेख में “मोमबत्ती बनाने का बिज़नस कैसे शुरू करें” जुङी सभी महत्वपूर्ण जानकारी बताई है, जिनकी मदद से आप मोमबत्ती का बिज़नस शुरु कर सकते है.

अगर आपके मन में कोई सवाल है तो आप उसे कमेंट बॉक्स में लिखकर पूंछ सकते है.

5/5 - (1 vote)

नमस्कार! दोस्तों मेरा नाम Ranjeet Singh है. प्रोफेशनल ब्लॉगर के साथ में एक Youtuber भी हूँ. मुझे डिजिटल मार्केटिंग और कंटेंट राइटिंग में गहरी नॉलेज है. इस पैसा.ब्लॉग पर पैसा कमाने के तरीके और बिज़नस आइडिया से सम्बंधित लेख साझा करता हूँ.

Leave a Comment